रेल मंत्रालय ने ऐसे यात्रियों से की रेल यात्रा न करने की अपील

कोरोना लॉकडाउन के बीच मजदूरों को उनके गांव सही-सलामत पहुंचाने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों की जद्दोजहद अभी भी जारी है। दुर्भाग्यपूर्ण बात तो यह है कि इस पर जमकर राजनीति भी हो रही है और कुछ राज्य सरकारें अपनी जिम्मेदारी से लगातार पल्ला भी झाड़ने की कोशिश कर रही है। हालांकि राहत की बात यह है कि अब मामले की गंभीरता समझते हुए देश की सर्वोच्च अदालत ने भी इसमें हस्तक्षेप किया है।

इस बीच रेलवे से एक बड़ी ख़बर आ रही है। मजदूरों को उनके राज्यों तक पहुंचाने की बड़ी भूमिका में लगी रेलवे ने अब देश के आम लोगों से अपील की है। रेल मंत्रालय ने लोगों से अपील की है कि इस तरह के व्यक्तियों को ट्रेन की यात्रा करने से बचना चाहिए।

रेल मंत्री पीयूष गोयल की अपील, ऐसे लोग नहीं करें ट्रेन से यात्रा

भारतीय रेल, देश भर में प्रतिदिन कई श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला रहा है, ताकि प्रवासियों की अपने घरों को वापसी सुनिश्चित की जा  सके।यह देखा जा रहा है कि कुछ ऐसे लोग भी श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में यात्रा कर रहे हैं जो पहले से ही ऐसी बीमारियों से पीड़ित हैं जिनसे कोविड़-19  महामारी के दौरान उनके स्वास्थ्य को खतरा बढ़ जाता है। यात्रा के दौरान पूर्व ग्रसित बीमारियों से लोगों की मृत्यु होने के कुछ दुर्भाग्यपूर्ण मामले भी मिले हैं।

ऐसे कुछ लोगों की सुरक्षा हेतु रेल मंत्रालय, गृह मंत्रालय के आदेश क्रमांक 40-3/2020-DM-l(A)  दिनांक 17.05.2020 के तहत, अपील करता है की पूर्व ग्रसित बीमारी (जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग, कर्करोग, कम प्रतिरक्षा) वाले व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे एवं 65 वर्ष से ऊपर के बुजुर्ग अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए, जब तक अत्यंत आवश्यक ना हो रेल यात्रा करने से बचें।

इसे भी पढ़ें :  सुषमा स्वराज ,जेटली और जार्ज सहित 7 को पद्म विभूषण -पर्रिकर ,आनंद महिंद्रा ,पीवी सिंधु समेत 16 को पद्म भूषण पुरस्कार का ऐलान

रेल मंत्रालय ने सार्वजनिक रूप से अपील जारी करते हुए कहा है कि हम समझ सकते हैं कि देश के कई नागरिक इस समय रेल यात्रा करना चाहते हैं एवं उनको निर्बाध रूप से रेल सेवा मिलती रहे, इस हेतु भारतीय रेल का परिवार चौबीसों घंटे,सातों दिन कार्य कर रहा है। पर हमारे यात्रियों की सुरक्षा हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता है और इसके लिए सभी देशवासियों का  सहयोग अपेक्षित है। किसी भी कठिनाई या आकस्मिकता पड़ने पर कृपया अपने रेल परिवार से संपर्क करने में हिचकिचाएं नहीं। भारतीय रेल आपकी सेवा में हमेशा की तरह तत्पर हैं I

रेलवे हेल्पलाइन नंबर याद रखिए-  139 & 138

यह बात बिल्कुल सही है कि मजदूरों को अपने गंतव्य स्थल तक पहुंचाने में रेलवे एक बड़ी भूमिका निभा रहा है लेकिन पिछले कुछ दिनों में लगातार घटी घटनाओं की वजह से रेलवे को आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ रहा है। वर्तमान माहौल में यह भी तय है कि रेल मंत्रालय के वर्तमान आदेश पर भी जमकर राजनीतिक बयानबाजी तो होगी ही।